Friday, July 24, 2009

तर्क नहीं बस इस सवाल का जवाब दे दीजिए

राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने कहा दिया कि उन्हें कॉण्टिनेंटल एयरलाइंस ने कोई माफीनामा नहीं भेजा है। अभी तक तो ये था कि कलाम साहब से एयरलाइंस ने माफीनामा मांग लिया है। लेकिन, ये भी बता दिया है कि आगे भी वो उनकी सुरक्षा जांच करने से बाज नहीं आएगी। अब तो लीजिए साहब ये साफ हो गया कि कलाम से एयरलाइंस ने माफी भी नहीं मांगी।

इस पर विपक्ष ने खूब हंगामा मचाया। एयरलाइंस का लाइसेंस रद्द करने की मांग तक कर डाली। लेकिन, अपने देश में अब विपक्ष की बात पर सत्ता पक्ष तो क्या कोई भी लोड नहीं लेता। नया फंडा है सिर्फ हंगामा करने के लिए कर रहे हैं। लोगों को ये बड़ा मुद्दा भी नहीं लगता। सुरक्षा जांच के नाम पर कलाम साहब के जूते उतरवाने और लाइन में खड़ा रखने की खबर पर मीडिया ने नया सवाल उछाला।


क्या ये वक्त नहीं आ गया है कि VIP को सुरक्षा जांच से छूट मिलनी बंद होनी चाहिए?


अमेरिकी एयरलाइंस कुतर्क कर रही है कि 'वो ट्रांसपोर्ट सिक्योरिटी एडमिनिस्ट्रेशन के नियमों के मुताबिक, एयरक्राफ्ट में चढ़ने से ठीक पहले एयरोब्रिज पर सुरक्षा जांच जरूरी है। और, अमेरिका से दुनिया भर में जाने वाली सभी उड़ानों में ये नियम लागू है। इस नियम से किसी को छूट नहीं है। '


मेरा सवाल ये है कि क्या हिलेरी क्लिंटन, बिल क्लिंटन, जॉर्ज बुश और अभी ओबामा की भी उसी तरह जांच होती है जैसे कलाम साहब की की गई है? मुझे नहीं लगता। देश में अचानक तटस्थ हो गए लोग ये सवाल तो उठा रहे हैं कि बेवजह छोटी सी बात पर विपक्षी हंगामा कर रहे हैं। लेकिन, क्या हमारी सरकार ये भी साहस दिखा सकती है कि अगली बार कोई भी अमेरिकी या कोई और तथाकथित VIP हमारे देश की किसी एयरलाइंस में सफर करे तो, उसकी भी सुरक्षा जांच उसी तरह से हो जैसे कलाम की हुई।

9 comments:

  1. हमारे देश में मेहमान तो भगवान होता है !!

    ReplyDelete
  2. honi hi chahiye ab sab ki jaanch
    hamaare desh ki suraksha bhi maayne rakhti hai
    ye bataado duniya walon ko........
    aalekh achha hai
    badhaai !

    ReplyDelete
  3. भाड में गया भगवान, हर आने वाले अमरिकी के कपड़े उतवाओ...

    ReplyDelete
  4. मुझे इस एयरलाइंस से ये पूछना हे कि क्य वो कभी राबर्ट बढेरा, राहुल गाधी, प्रियंका या सोनिया गांधी का तलाशी ले सकती है?

    ReplyDelete
  5. विपक्ष (खासकर भाजपा) जो भी कहती या करती है, वह या तो सिर्फ़ खामखा हल्ला मचाने के लिये होता है या फ़िर उस मुद्दे पर राजनीति करने के लिये…। असली जागरूक तो सिर्फ़ कांग्रेसी और वामपंथी हैं… यदि भाजपा कहे कि दो और दो चार होता है, तो यकीनन पाँच या तीन ही होता होगा… भाजपा की कोई बात कभी नहीं मानी जानी चाहिये… जॉर्ज फ़र्नांडीस की भी तो तलाशी हुई थी, तब कांग्रेसियों ने जो हंगामा किया था उसे कहते हैं असली देशप्रेम…। देश के सबसे अमीर प्रदेश के तीन बार मुख्यमंत्री बनने वाले को वीज़ा नहीं देना भी एक छोटी सी बात है, खामखा हल्ला मचाते हैं बीजेपी वाले तो… आप तो लगे रहिये जी तलाशी में, सबकी तलाशी जमकर लीजिये… बस प्रियंका-राहुल-सोनिया को छोड़कर।

    ReplyDelete
  6. सुरेश भाई, राबर्ट वडेरा का नाम भूल गये-प्रियंका-राहुल-सोनिया के साथ. :)

    ReplyDelete
  7. अमरीका अपने देश की सुरक्षा करना जानता है, हमारे देश में भी हर किसी के लिए यह लागू होना चाहिए चाहे वह वी .आई.पी हो या गैर वी .आई.पी

    ReplyDelete
  8. Anonymous12:27 AM

    हर्ष आपने सही लिखा है। पर एक प्रश्न यह भी है कि जाँच होने पर जब जूते उतरवाये गये तब कलाम साहब को यह सब करने से मना कर देना था। वे वापस आ जाते। स्वाभिमान भी तो कोई चीज होती है। क्या पडी थी कि इतना अपमान सहने के बाद भी उसी एयरलाइंस से अमेरिका की यात्रा की।

    वे विरोध करते तो पूरा देश उठ खडा होता उनके समर्थन मे। समझौता करके उन्होने ठीक नही किया।

    वैसे हमारे देश की एयरलाइंस क्या बन्द हो गयी थी जो उन्होने विदेशी एयरलाइन्स को चुना सारे अपमान सहने के बाद भी---

    ReplyDelete

भारत के नेतृत्व में ही पर्यावरण की चुनौती का समाधान खोजा जा सकता है

हर्ष   वर्धन   त्रिपाठी  @MediaHarshVT पर्यावरण की चुनौती से निपटने के लिए भारत को नेतृत्व देना होगा विकसित होने की क़ीमत सम्...