Posts

Showing posts from July, 2012

नौजवानी सत्ता सुधारने में लगे तो, बेहतर

Image
" राजनीति की समस्या यही है वोट बटोरने के लिए मायावती की मूर्तियां तोड़वाने और पार्क में अस्पताल खुलवाने का बयान जरूरी था। अब यही चुनाव के समय वोट बैंक की जरूरत सत्ता में आने के बाद अखिलेश की मुसीबत बन रही है। चलिए बनवाइए मूर्ति। देखिए कितने दिन संभाल पाते हैं। " अखिलेश यादव से मिलकर लगा कि वो, सुलझे हुए नेता हैं। यूपी के लिए कुछ अच्छा करना चाहते हैं। लेकिन, मुश्किल ये है कि समाजवादी पार्टी का नौजवान कार्यकर्ता जो, अखिलेश को नेता मानता है। वो, अखिलेश की अगुवाई तो, चाहता है लेकिन, राजनीति मुलायम की पहलवानी दिनों वाले अंदाज की पसंद कर रहा है। ऐसे ही एक नौजवान सपा कार्यकर्ता ने यूपी की नवनिर्माण सेना बना ली। मायावती की मूर्ति का सर, धड़ से अलग कर दिया। उस पर दुस्साहस देखिए कि वो, प्रेस कांफ्रेंस करके सारी मायावती की मूर्तियों को तोड़ने की अपील भी अखिलेश से कर रहा है। भला बस इतना हुआ कि अखिलेश का बयान मूर्ति तोड़ने की निंदा के साथ मायावती की उस मूर्ति को फिर से बनवाने का भी आया है। लेकिन, अखिलेश जी बड़ी कठिन है डगर यूपी की ...

लड़की के कपड़े फाड़ने वाले ये मर्द !

Image
गुवाहाटी में एक महिला के साथ तथाकथित पुरुषों ने जो किया वो, शर्मनाक है और किसी भी संवेदनशील समाज में स्त्री-पुरुष संबंधों को बदतर करने वाला है। ये खबर जब मैंने प्राइम टाइम में एनडीटीवी इंडिया पर देखा तो, ---- "गुस्से में मैं भी था लेकिन, जैसे ही कुछ कहने के लिए मुंह खोला। पत्नी उबल पड़ी इन आदमियों को तो, औरत जैसे भी हो ये यही करेंगे। "  हर लड़की-औरत को ये गुस्सा आना जरूरी है। पुरुषों को हिकारत मिलनी जरूरी है। ऐसी ही एक घटना जब नए साल पर मुंबई के एक होटल के बाहर घटी थी। तो, मैं मुंबई में ही था। लेकिन, उनके "पौरुषी पुरुषों" के घर की महिलाओं ने तो, कुछ अलग ही दृष्य पेश किया था। यही मानसिकता असल जड़ है। इसी में मट्ठा डालने की जरूरत है।

का भई अखिलेश, पिताजी के आगे नहीं बढ़ोगे ?

Image
‎5 साल अखिलेश यादव और उनके पिता मुलायम सिंह यादव के साथ उत्तर प्रदेश के समाजवादी मायावती की कुर्सी के पीछे पड़े रहे। आखिरकार मायावती वाली कुर्सी मुलायम ने अखिलेश को सौंप दी। सबने सोचा यूपी में नए जमाने का मुख्यमंत्री कुछ नया लाएगा। लेकिन, अभी जो, फैसले होते दिख रहे हैं उससे लग रहा है कि अगले 5 साल अखिलेश, उनकी सरकार और उनके समाजवादी मायावती सरकार के पिछले 5 साल के फैसले के पीछे पड़े रहेंगे। नतीजा- उत्तर प्रदेश तो, पीछे ही जाएगा। इससे बेहतर तो, बहन जी ही थीं। कम से कम आगे वाला काम तो, करती थीं। शाने अवध अब उनके लखनऊ के पार्क में बढ़िया अहसास कराती है। F 1 ट्रैक पर यूपी भी रफ्तार भरने का अहसास दिलाता है। बंद ही सही लेकिन, शानदार नोएडा का पार्क भी विकसित देशों के शहरों से टक्कर लेता दिखता है। यहां तो, बस सारी मेहनत अखिलेश की पलटने में ही जाती दिख रही है।

अनुराग की पिक्चर 'अनुराग' के लायक नहीं

Image
देख ली। चरित्र भी सॉलिड टाइप के हैं। हर चरित्र का दादागीरी अच्छी दिखी। लेकिन, बड़ी ही असफल कोशिश दिखी- गुंडई और आतंक का अतिरेक दिखाने की। गैंग्स ऑफ वॉसेपुर में फर्जी गैंगबाजी। फर्जी गोली-बम, कसाईबाड़ा। मांस के लोथड़े और, मोहल्ले स्तर की गालियां- उसमें भी कोई कलाकारी नहीं। इसीलिए A प्रमाणुपत्र भी मिल गया। अब बताइए विक्रम भट्ट-महेश भट्ट सेक्स, आतंक बेचें तो, बाजारू (कमर्शियल) फिल्म कहकर आलोचना हो। और, जब अनुराग कश्यप टाइप कोई थियेटर वाले अंदाज में वही सेक्स, आतंक बेचें तो, कला (आर्ट) फिल्म। पूरी फिल्म में ताना बाना, बुनावट काफी कमजोर दिखी। माफ कीजिए बेवजह तारीफ कर पाना आदत में ही नहीं है। #GOW #Anuragkashyap #hindicinema