बिग बॉस के घर में सबके पाप धुल जाएंगे

आखिरकार बिग बॉस के घर में देश के छंटे हुए लोगों का पहला हफ्ता बीत गया। बिग बॉस की नजर सब पर थी। इसलिए संजय निरुपम को ही जाना था और वो, बिग बॉस के घर से बाहर गए। मुझको तो वजह भी साफ दिखती है। बिग बॉस के घर में रहकर जितनी नौटंकी-कमीनापन और नंगई करनी है वो, संजय कर नहीं पा रहे थे। कम से कम परदे पर बिग बॉस की नजरों के सामने तो नहीं ही कर पा रहे थे (परदे के पीछे तो नेता सब करते ही हैं ये, तो जनता जानती है और मानती भी है)। और, संजय का काम भी हो चुका था-बिग बॉस का भी।

पहले बिग बॉस के काम की बात करें तो, वो ये कि देश में छोटे परदे पर सबसे ज्यादा लोग नई बिग बॉस (शिल्पा शेट्टी) को जानें। और, इससे परदे के पीछे के बॉसेज (प्रोडक्शन हाउस और कलर्स चैनल) को सबसे ज्यादा कमाई हो। वो, दोनों काम तो होने शुरू हो गए हैं। और, बिग बॉस के घर के बादशाह (कमीनतम व्यक्ति) का नाम सबके सामने आते-आते ये काम काफी हद तक पूरा हो चुका होगा।

अब बात संजय निरुपम के काम की। तो, दरअसल ये सिर्फ संजय निरुपम का ही काम नहीं है। बिग बॉस के घर पहुंचे सभी मेहमानों की आखिरी ख्वाहिश (जैसी फांसी पर लटकने से पहले किसी मुजरिम की होती है) पूरी होने जैसा है। बिग बॉस के चरित्रों को अगर ध्यान से देखिए तो, ये ज्यादातर लोग अपना कोई न कोई पाप धुलने के लिए बिग बॉस का चरण-चांपन करने पहुंचे हैं। जिनके पाप नहीं हैं वो, पापियों की जमात में बहती गंगा में हाथ धोने जैसा पहुंचे हैं।

कैसे, देखिए- चलिए संजय निरुपम से ही शुरू करते हैं। संजय पता नहीं कब से मुंबई में हैं (उनसे पूछना पड़ेगा) लेकिन, अभी भी बिहारी हैं (शिवसेना भी उनका इस्तेमाल मारपीट में ही करती रही, अब कांग्रेस में रहकर भी बस राज ठाकरे के खिलाफ मोर्चा निकालने का काम करके मीडिया में दिखते हैं)। तो, उनको अपनी इमेज इस मायानगरी मुंबई के लिहाज से कुछ फिच करवानी थी। उनको बाहर करने की वोटिंग में केतकी ने सबसे बड़ी वजह भी यही बताई कि वो, हम कलाकारों (मायावी) के बीच कंफ्यूज थे।

नेता के बाद बात नेतापुत्र की। बिग बॉस शुरू होने के पहले एक खबर मुंबई मिरर में छपी थी जिसकी शुरुआत कुछ इस तरह से थी कि अपने समय में प्रमोद महाजन भले ही किसी को भी बॉलीवुड स्टार या पॉलिटिक्स स्टार बनाने की हैसियत रखते हों। उनके बेटे राहुल महाजन को बिग बॉस अपने घर का मेहमान बनाने को तैयार नहीं हैं। बाद में राहुल के एक दोस्त के हवाले से ये खबर साफ हुई कि बड़ी मुश्किल से उन्हें बिग बॉस के घर में एंट्री मिली। पिता की दर्दनाक मौत के बाद गम भुलाने के लिए थोड़ा नशा पत्ती (हां, पांच सौ की पत्ती पर रखकर) ही तो किया था, पत्नी को इतना प्यार किया था तो, थोड़ा दो-चार हाथ नसे में जड़ दिए तो, जमाने ने बेचारे की पूरी इमेज ही बिगाड़ दी। अब इस सब पर सच्चाई जमाने को बताने के लिए और सब भुलाकर छवि साफ करने के लिए बिग बॉस के घर से बेहतर जगह कौन हो सकती थी। शिल्पा को राहुल cute लगता है।

एक और पापी (राम-राम बेचारी पाक साफ बच्ची के ऊपर किस-किस तरह के आरोप लगे)। देश के मोस्ट वॉन्टेड डॉन्स में से एक अबू सलेम से बेचारी ने प्रेम क्या किया। पूरे मीडिया समाज ने उसे और उसके मां-बाप को जिल्लत भरी जिंदगी जीने के लिए मजबूर कर दिया (ये सब मोनिका बेबी ने रो-रोकर खुद बिग बॉस के घर में बताया)। दिल की साफ-सच्चा मोनिका बेबी ने तो परदे पर ही लगे हाथ छवि सुधारने में मदद के लिए बिग बॉस का शुक्रिया भी अदा कर दिया। छत न होने का हवाला (हवाले से कुछ पैसे तो मिले ही होंगे) देकर संजय निरुपम से एक घर की हामी भी भरवा ली।

संजय निरुपम को पानी पी-पीकर गाली देने वाली संभावना शेठ। संजय निरुपम के करीब-करीब बेशर्म कह देने से नाराज संभावना ने बिग बॉस के घर के हर कैमरे पर एंगल से कहा- मैं नंगी होकर तो नहीं घूमती। भोजपुरी फिल्मों की ये आइटम गर्ल हर दूसरे मिनट परदे पर ठक ठिका ठक ठिका ठक ठिका ठा... की धुन पर भौंडे तरीके से कूल्हे और बदन मटकाने लगती है। इच्छा ये कि ये ठक ठिका उसे भोजपुरी से उठाकर हिंदी फिल्मों की आइटम गर्ल बना दे।

और, संभावना जिसके कंधे पर सर रखकर रो पाती है वो, राजा। वैसे, संभावना ने राजा चौधरी के कंधे पर रोते-रोते वो बता दिया जो, पेज 3 पत्रकारों के लिए आगे बड़ी चटपटी ब्रेकिंग न्यूज होने वाली है। राहुल महाजन अपनी प्रेमिका पायल के साथ शो में है। लेकिन, वो डॉन की माशूका का हाथ थामने का कोई मौका छोड़ नहीं रहा है। अरे, राजा चौधरी को भूल गए आप लोग। जिसने अपनी पत्नी श्वेता तिवारी को जमकर पीटा था- फिर जब पूरी मीडिया इकट्ठा हो गया तो, उसने कहाकि उसने पब्लिसिटी के लिए ये सब नौटंकी की थी। अब जब राजा चौधरी मीडिया का इतनी आसानी से इस्तेमाल करने में माहिर हैं तो, फिर बिग बॉस के घर में वो क्या-क्या गुल खिलाएंगे देखते रहिए।

एहसा...............न कुरैशी हर शब्द को लंबा खींच-खींचकर लोगों को हंसाते-हंसाते थक गए थे और शायद खुद भी पक गए थे। उनका दर्द ये कि किराने की दुकान वाला भी उनको सामान देने से पहले कहता है हंसाके दिखाओ तब राशन दूंगा।

MTV ROADIES जीतकर सहारनपुर का देसी-भदेस छोरा आशुतोष भी चर्चित हो गया है। MTV ROADIES वही- कमीनेपन में अपने साथ के लोगों को पीछे छोड़ने वाला मुकाबला। अब वो, बिग बॉस जीतकर शहरी लोगों पर देहाती कमीनेपन को साबित करने की होड़ मे जुट गया है। वैसे, राहुल महाजन और आशुतोष को ही बिग बॉस के घर के कमीनेपन के मुकाबले का बादशाह माना जा रहा है।

केतकी माताजी टाइप इमेज से बाहर निकलना चाहती हैं तो, देबोजीत के पास फिलहाल कोई दूसरा रियलिटी शो नहीं है और न ही कोई म्यूजिक टूर। तो, सोचा चलो बिग बॉस के घर में ही तानपूरे पर रियाज करेंगे। अकेला गायक होने से कोई मुकाबला भी नहीं है। और, लोगों को कोई जानता ही नहीं। इसलिए वो, परदे पर दिख रहे हैं यही बहुत है।