Skip to main content

मूत्रपीता भारतीय किसान नहीं हो सकता

जन्तर मन्तर पर प्रदर्शन करते तमिलनाडु के किसान
जन्तर मन्तर पर तमिलनाडु से आए किसान प्रदर्शन कर रहे हैं। नरमुण्ड के बाद नंगे होकर प्रदर्शन में अब वो अपना मूत्र पीकर प्रदर्शन कर रहे हैं। किसान सुनते ही लगता है कि इसका कुछ भी कहना जायज़ है। सही मायने में होता भी है, भारत में किसानों की दुर्दशा देश की दुर्दशा की असली वजह भी रही। इस दुर्दशा को रोकने के लिए आसान रास्ता सरकारों ने, नेताओं ने निकाल लिया है कि कुछ-कुछ समय पर क़र्ज़ माफ़ी करते रहो। नेताओं की दुकान चलती रही, खेती ख़त्म होती रही। अब उसी की इन्तेहा है कि तमिलनाडु के किसान नंगई पर उतरने के बाद मूत्र पीकर प्रदर्शन कर रहे हैं। अब मुझे पक्का भरोसा हो गया है कि ये भारत का किसान नहीं हो सकता जो धरती माँ की सेवा करके सिर्फ बारिश के पानी के भरोसे अन्नदाता बन जाता है। ये राजनीतिक तौर पर प्रेरित आन्दोलन दिख रहा है। ये किसान अगर इस बात की माँग के लिए जन्तर मन्तर पर जुटे होते कि इस साल हमने इतना अनाज उगाया, हमारी लागत के बाद कम से कम इतना मुनाफ़ा ही हमें किसान बनाए रख सकेगा। मैं भी जन्तर मन्तर पर इनके साथ खड़ा होता लेकिन नरमुण्ड, नंगई के बाद मूत्र पीकर वितण्डा करने वाले किसानों को भड़काकर मैं सरोकारी नहीं बनना चाहता। मैं बहुत अच्छे से जानता/मानता हूँ कि अच्छी कमाई वाले किसान नहीं बचे तो कोई भी जीडीपी ग्रोथ देश को आगे ले जाने से रही। लेकिन ऐसे वाले किसान प्रतिष्ठित हुए तो देश गर्त में ही जाएगा। सरकार अन्नदाता किसान की प्रतिष्ठा बढ़ाओ, मूत्रपीता किसान को लानत भेजो।

Top of Form

जन्तर मन्तर पर घृणित तरीक़े से प्रदर्शन करने वाले तमिलनाडु के किसानों पर मैंने सन्देह ज़ताया और ऊपर लिखी टिप्पणी की, तो मुझे संघी कहने से लेकर तमिलनाडु से क़रीब १५० साल में सबसे ख़राब सूखे की स्थिति तक की कहानी तथाकथित सरोकारी विद्वानों ने समझा दी। कई विद्वान जो जन्तर मन्तर से मीलों दूर बैठे हैं, उन्होंने मुझे बताने की कोशिश की कि कभी जन्तर मन्तर जाकर देखो, तब टिप्पणी करो। अब उन शिरोमणियों को कौन समझाए कि लगभग रोज़ जन्तर मन्तर से ही गुज़रना होता है। कई विद्वान शिरोमणि तो ऐसे हैं कि कुछ भी तमिलनाडु के किसानों जैसा प्रोयाजित आन्दोलन सन्देह के दायरे में आया तो वो तुरन्त जोर जोर से चिल्लाने लगते हैं। संघ, मोदी का विरोध करने वाला हर कोई देशद्रोही क़रार दे दिया जा रहा है। दुराग्रह बढ़ा तो उसमें गोली मरवा दो जैसी टिप्पणी भी जोड़ दी गई। अब सब ग़ायब (अवधी म कही तो बिलाय गएन) हो गए हैं कि क्यों मूत्र पीने, चूहा खाने जैसी घिनौनी हरकत करने वाले किसान दिल्ली के #एमसीडी का मतदान होते ही लौटने को तैयार हो गए। हे फ़र्ज़ी सरोकारियों, धर्मनिरपक्षों, संघ-मोदी विरोधियों थोड़ा तो सही आधार खोजकर टिप्पणी करो वरना बचे खुचे भी बस संग्रहालय भर के ही रह जाओगे। मेरी टिप्पणी, विश्लेषण ग़लत हुआ तो हाथ जोड़कर माफ़ी माँग लूँगा तुम्हारी तरह फर्जीवाड़े की दुकान नहीं चलाऊँगा। ख़ैर अब तो तमिलनाडु का किसान धरने से उठ गया है। तुम पर देश की जनता का भरोसा तो पहले ही उठ गया है। कुछ नया आधार, नई साज़िशें तैयार करो। 

Comments

Popular posts from this blog

किसान राजनीति के बीच सरकार आधुनिक किसान नेता बनाने में जुटी है

हर्ष वर्धन त्रिपाठी दिल्ली की सीमा पर तीन तरफ़ सिंघु , टिकरी और ग़ाज़ीपुर पर कृषि कानूनों के विरोध में किसान संगठन बैठे हुए हैं और फ़िलहाल कोई रास्ता निकलता नहीं दिख रहा है। सरकार और किसानों के नाम आंदोलन कर रहे संगठनों के बीच में वार्ता भी पूरी तरह से ठप पड़ गयी है। किसानों के नाम पर संगठन चला रहे नेताओं ने अब दिल्ली सीमाओं पर स्थाई प्रदर्शन के साथ रणनीति में बदलाव करते हुए देश के अलग - अलग हिस्सों में किसान पंचायत , बंद और प्रदर्शन के ज़रिये सरकार के ख़िलाफ़ माहौल बनाना शुरू किया है , लेकिन नरेंद्र मोदी सरकार कृषि क़ानूनों को लेकर ज़्यादा दृढ़ होती जा रही है। चुनावी सभाओं से लेकर अलग - अलग कार्यक्रमों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को आधुनिक कृषि व्यवस्था से जोड़कर उनकी आमदनी दोगुना करने के सरकार के लक्ष्य को बार - बार दोहरा रहे हैं , लेकिन बड़ा प्रश्न यही है कि आख़िर किसानों को यह बात समझाने में सरकार कैसे कामयाब हो पाएगी , जब

भारतीय संवैधानिक व्यवस्था में दम तोड़ेगी यूनियनबाज किसानों की “अराजकता”

भारतीय संविधान निर्माताओं ने जब संविधान बनाया था तो स्पष्ट तौर पर उसमें यह व्यवस्था स्पष्ट करने की कोशिश की थी कि किसी भी हाल में विधायिका , न्यायापालिका और कार्यपालिका के बीच किसी तरह का टकराव न हो। हालाँकि , इसमें लोकतंत्र की मूल भावना का ख्याल रखते हुए विधायिका और न्यायपालिका को एक दूसरे पर इस नज़रिये से नज़र रखने का बंदोबस्त किया गया कि किसी भी हाल में निरंकुश व्यवस्था न हावी हो जाए , लेकिन सबके मूल में लोकतंत्र को ही सर्वोच्च भावना के साथ स्थापित करना था , इसीलिए कई बार भारतीय लोकतंत्र में इस बात की भी चर्चा होने लगती है कि भारत में अतिलोकतंत्र की वजह से सरकारें निर्णय नहीं ले पाती हैं। पहले नागरिकता क़ानून के विरोध में चले शाहीनबाग और अब कृषि क़ानूनों के विरोध में चल रहे सिंघु - टिकरी - गाजीपुर के आंदोलन को लेकर अतिलोकतंत्र की बहस फिर से छिड़ गई है और इसी अतिलोकतंत्र की बहस के बीच सर्वोच्च न्यायालय ने तीनों कृषि क़ानूनों को नि

पिंजरा या भारत तोड़ने की कोशिश ?

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में मुख्य परिसर से सटा हुआ या यूं कह लें कि मुख्य परिसर में ही महिला छात्रावास है। और, विश्वविद्यालय में पढ़ने वाली छात्राएं, महिला छात्रावास से निकलकर सीधे परिसर में आ जातीं थीं, लेकिन यह रास्ता पूरी तरह से उन्हीं छात्राओं के लिए था जो महिला छात्रावास में रहती थीं। महिला छात्रावास में छात्रों या किसी को भी जाने के लिए मुख्य द्वार से ही जाना होता था और इसके लिए बाकायदा सुरक्षा में लगे जवानों के पास नाम वगैरह दर्ज कराकर ही जाया जा सकता था। 90 के दशक तक 3 महिला छात्रावास हुआ करते थे और उन तीनों के पहले छात्रावास अधीक्षिका का कक्ष, छात्रावास कार्यालय होता था, वहीं तक जाकर छात्राओं से मुलाकात होती थी। वर्ष में एक बार विश्वविद्यालय के छात्रों को महिला छात्रावास के अंदर जाने का अवसर मिलता था और वह अवसर होता था छात्रसंघ चुनाव के दौरान इलाहाबाद विश्वविद्यालय की बेहद अनोखे मशाल जुलूस वाले दिन। हर प्रत्याशी अपने जुलूस के साथ महिला छात्रावास में जाता था, जहां छात्राएं, छात्रसंघ प्रत्याशियों के ऊपर फूल फेंकती थीं और जिस नेता के ऊपर ज्यादा गुलाब गिरे, उसकी जीत पक्की मान