Skip to main content

Posts

Showing posts from January, 2021

बजट में उनका ध्यान ज़रूरी जो आत्मनिर्भर भारत पैकेज का हिस्सा नहीं हैं

  हर्ष वर्धन त्रिपाठी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी क़रीब 21 लाख करो़ड़ रुपये के आत्मनिर्भर भारत आर्थिक पैकेज का एलान कर चुके हैं। चाइनीज़ वायरस से लगभग ठप हो चुकी भारतीय अर्थव्यवस्था को इससे कम में चलाया भी नहीं जा सकता था। आत्मनिर्भर भारत पैकेज में सबसे कमजोर वर्ग को राशन उपलब्ध कराने , लोगों के हाथ में कुछ रक़म देने और किसानों के हाथ में साल का 6000 रुपये देने से लेकर छोटे - मंझोले उद्योगों को आसानी से क़र्ज़ मिलने की व्यवस्था की गई। साथ ही क़र्ज़ लेने वालों को ईएमआई आगे बढ़ाने का विकल्प भी दे दिया गया। कुल मिलाकर चाइनीज़ वायरस से प्रभावित भारत में आत्मनिर्भर भारत पैकेज के ज़रिये किए गए एलानों को अगर देखें तो लगभग बजट जैसा ही प्रस्तुत किया जा चुका है। फिर 1 फ़रवरी 2021 को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से क्या नया पेश करने की उम्मीद की जा सकती है। इसे समझने के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को ही ध्यान से सुनना ज़रूरी है। बजट कैसा हो