Wednesday, November 30, 2022

Prannoy Roy और Radhika Roy NDTV चलाने वाली कंपनी के बोर्ड से बाहर हुए

 हर्ष वर्धन त्रिपाठी Harsh Vardhan Tripathi


NDTV पर Adani समूह के अधिग्रहण को लेकर सारे कयास खत्म हो गए। पहले से ही यह तय हो गया था कि, NDTV में अडानी समूह जल्द ही अपनी हिस्सेदारी नियंत्रण वाली कर लेगा। अब NDTV को चलाने वाली कंपनी की तरफ से Bombay Stock exchange को यह अधिकारिक तौर पर सूचित कर दिया गया है कि, प्रणय रॉय और राधिका रॉय ने बोर्ड निदेशक के पद से त्यागपत्र दे दिया है और बोर्ड में नये निदेशक के तौर पर सुदीप्त भट्टाचार्य, संजय पुगलिया और सेंथिल चिंगलवरायन को शामिल कर लिया गया है। सुदीप्त भट्टाचार्य अडानी समूह की कंपनियों से लंबे समय से जुड़े रहे हैं और अडानी समूह के अमेरिकी विस्तार को देखते रहे हैं। संजय पुगलिया अभी अडानी समूह के मीडिया के CEO और एडिटर इन चीफ हैं। सेंथिल चेंगलवरायन और संजय पुगलिया पहले टीवी 18 में एक साथ काम कर चुके हैं। अडानी समूह की क्विंटिलियन मीडिया में हिस्सेदारी भी है। सेंथिल टीवी 18 में राघव बहल के साथ प्रमुख भूमिका में थे और संजय पुगलिया सीेएनबीसी आवाज के संपादक थे। सीएनबीसी आवाज से पहले संजय पुगलिया ने भारत में स्टार न्यूज की शुरुआत की थी। जी न्यूज के संपादक रहे और आज तक में एसपी सिंह की टीम का हिस्सा रहे। एनडीटीवी समूह के चैनल और डिजिटल के अलावा क्विंटिलियन मीडिया की खरीद के साथ ही BQ Prime की शुरुआत भी आज से अडानी मीडिया समूह करने जा रहा है। मीडिया में हुए इस बड़े परिवर्तन पर सबकी नजरें हैं। एनडीटीवी इंडिया में प्राइम टाइम करने वाले रवीश कुमार पहले ही अपना यूट्यूब चैनल शुरू कर चुके हैं। इससे स्पष्ट है कि, रवीश कुमार सहित एनडीटीवी के अधिकांश बड़े चेहरों के लिए अडानी मीडिया समूह में गुंजाइश कम ही रहेगी। अडानी मीडिया समूह दिल्ली और मुम्बई से संचालित होगा। अभी अर्चना से ही एनडीटीवी चलेगा, लेकिन आने वाले समय में नोएडा में एक जगह पर अडानी मीडिया समूह स्थानांतरति हो सकता है। बेहद आक्रामक कारोबारी रवैये के लिए जाने जाने वाले गौतम अडानी के मीडिया में आने से टीवी में जमे पुराने खिलाड़ियों के लिए यह बड़ी चुनौती की तरह देखा जा रहा है। अंबानी पहले से ही राघव बहल के नेटवर्क 18 को खरीदकर मीडिया का बड़े खिलाड़ी के तौर पर पांव जमा चुका है। 

No comments:

Post a Comment

नरेंद्र मोदी का साक्षात्कार जो हो न सका

Harsh Vardhan Tripathi हर्ष वर्धन त्रिपाठी काशी से तीसरी बार सांसद बनने के लिए नामांकन पत्र दाखिल करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2004-10 तक ...