Skip to main content

ये ठुकराए जा चुके लोगों का आर्तनाद है

#StopIdentityPolitics #RohithVemula 4Dalit इतना आसान नहीं है भाई। जैसे आप लोग समझ रहे हैं या फिर समझा रहे हैं। @RSSorg या @ABVPVoice कुछ भी अच्छा करें, वो खबर नहीं हो सकती। खबर तो छोड़िए उस पर बात भी नहीं हो सकती। वामपंथी देश में कहीं नहीं बचे। लेकिन, स्थापित है कि सरोकार सिर्फ वामपंथी करते हैं। देश की एक बहुत बड़ी समस्या है। कश्मीर से कम नहीं है। कश्मीर में मुसलमान हैं, तो इस बहाने बात हो जाती है। हालांकि, कश्मीरी पंडितों के लिए बात कम ही होती है। उत्तर पूर्व की बात कितनी होती है। इस देश में। कब होती है। जब कोई उत्तर पूर्व का, दिल्ली में किसी की बद्तमीजी का शिकार हो जाता है। या तब बात होता है जब कई दिनों तक उत्तर पूर्व के लोग अपने लिए लड़ते रहते हैं। तो कहीं कोई छोटी सी खबर बन जाती है। इस समय भी बात राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के दबाव से आत्महत्या करने लेने की रोहित वेमुला की खबर छाई हुई है। इसमें अब कोई छिपी बात तो है नहीं कि किस तरह से वामपंथ ने रोहित को इस्तेमाल कर लिया। सारे तथ्य अब सामने हैं। एक छात्र की मौत बहुत दुखद है। आत्महत्या शर्मनाक, दुखद है। उस पर एक ऐसा छात्र जिसकी संभावनाएं बस शुरू ही हुईं थीं। एक ऐसा छात्र जो अपने मां-बाप को काफी कुछ दे सकता था। कम से कम इतना तो दे ही सकता था कि उसके मां-बाप अपने कष्टों की परवाह किए बिना जितना उसके लिए करते थे। उसकी कुछ भरपाई हो पाती। लेकिन, रोहित चला गया। अब उस रोहित के बहाने वामपंथियों को ये मौका मिल गया है। विद्यार्थी परिषद पर हमला करने और उस बहाने संघ को जातिवादी, सांप्रदायिक साबित करने का। 

इलाहाबाद में उत्तर पूर्व के छात्रों का स्वागत करते परिषद कार्यकर्ता
सोचिए उत्तर पूर्व के लोगों को देश के लोगों के साथ जोड़ने का कोई काम संघ कर रहा है। क्या उसकी चर्चा कहीं कभी हुई क्या। होगी भी नहीं। क्योंकि, इससे तो फिर संघ या उससे जुड़े संगठनों पर हमला करना ही मुश्किल हो जाएगा। और ये काम कोई आजकल या भारतीय जनता पार्टी के सत्ता में आने के साथ संघ या विद्यार्थी परिषद ने नहीं शुरू किया है। ये काम होते पचास साल हो गए हैं। ये तस्वीर जो उत्तर पूर्व के छात्र-छात्राओं की मुस्कुराते हुए दिख रही है। उसी काम के पचास साल पूरे होने पर इलाहाबाद में ली गई है। #SEIL Student Experience in Interstate Living का ये कार्यक्रम परिषद पिछले पचास साल से चला रहा है। जिसमें देश के दूसरे हिस्सों के छात्र-छात्राओं के घर में आकर उत्तर पूर्व के छात्र-छात्राएं रहते हैं। इससे बड़ा सरकोरी काम क्या होगा। लेकिन, ये चूंकि संघ और विद्यार्थी परिषद राष्ट्र को मजबूत करने के लिए करता है। तो ये राष्ट्र लगते ही सांप्रदायिक हो गया। ये सरोकारी नहीं रह जाएगा। हालांकि, जनता अब वामपंथ के लाल वाले चश्मे से टपकते खून को पूरी तरह से हटा देना चाहती है। काफी हद तक हटा भी दिया है। लेकिन, भारतीय जनता पार्टी की सरकार आते ही हर बात के लिए सरकार के बहाने संघ और उससे जुड़े संगठनों पर हमला करके वामपंथ फिर से नौजवानों की आंखों में वही लाल खून उतारने की पुरजोर कोशिश कर रहा है। करेगा भी। क्योंकि, वामपंथ या जाति के आधार पर बने संगठन मुद्दों के आधार पर जनता के बीच स्वीकार्य नहीं हैं। ठुकराए जा चुके हैं। ये ठुकराए लोगों का आर्तनाद है। जो असहिष्णुता, जातिवाद और सांप्रदायिकता के नाम से सुनाई देता रहेगा। 

Comments

Popular posts from this blog

किसान राजनीति के बीच सरकार आधुनिक किसान नेता बनाने में जुटी है

हर्ष वर्धन त्रिपाठी दिल्ली की सीमा पर तीन तरफ़ सिंघु , टिकरी और ग़ाज़ीपुर पर कृषि कानूनों के विरोध में किसान संगठन बैठे हुए हैं और फ़िलहाल कोई रास्ता निकलता नहीं दिख रहा है। सरकार और किसानों के नाम आंदोलन कर रहे संगठनों के बीच में वार्ता भी पूरी तरह से ठप पड़ गयी है। किसानों के नाम पर संगठन चला रहे नेताओं ने अब दिल्ली सीमाओं पर स्थाई प्रदर्शन के साथ रणनीति में बदलाव करते हुए देश के अलग - अलग हिस्सों में किसान पंचायत , बंद और प्रदर्शन के ज़रिये सरकार के ख़िलाफ़ माहौल बनाना शुरू किया है , लेकिन नरेंद्र मोदी सरकार कृषि क़ानूनों को लेकर ज़्यादा दृढ़ होती जा रही है। चुनावी सभाओं से लेकर अलग - अलग कार्यक्रमों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को आधुनिक कृषि व्यवस्था से जोड़कर उनकी आमदनी दोगुना करने के सरकार के लक्ष्य को बार - बार दोहरा रहे हैं , लेकिन बड़ा प्रश्न यही है कि आख़िर किसानों को यह बात समझाने में सरकार कैसे कामयाब हो पाएगी , जब

भारतीय संवैधानिक व्यवस्था में दम तोड़ेगी यूनियनबाज किसानों की “अराजकता”

भारतीय संविधान निर्माताओं ने जब संविधान बनाया था तो स्पष्ट तौर पर उसमें यह व्यवस्था स्पष्ट करने की कोशिश की थी कि किसी भी हाल में विधायिका , न्यायापालिका और कार्यपालिका के बीच किसी तरह का टकराव न हो। हालाँकि , इसमें लोकतंत्र की मूल भावना का ख्याल रखते हुए विधायिका और न्यायपालिका को एक दूसरे पर इस नज़रिये से नज़र रखने का बंदोबस्त किया गया कि किसी भी हाल में निरंकुश व्यवस्था न हावी हो जाए , लेकिन सबके मूल में लोकतंत्र को ही सर्वोच्च भावना के साथ स्थापित करना था , इसीलिए कई बार भारतीय लोकतंत्र में इस बात की भी चर्चा होने लगती है कि भारत में अतिलोकतंत्र की वजह से सरकारें निर्णय नहीं ले पाती हैं। पहले नागरिकता क़ानून के विरोध में चले शाहीनबाग और अब कृषि क़ानूनों के विरोध में चल रहे सिंघु - टिकरी - गाजीपुर के आंदोलन को लेकर अतिलोकतंत्र की बहस फिर से छिड़ गई है और इसी अतिलोकतंत्र की बहस के बीच सर्वोच्च न्यायालय ने तीनों कृषि क़ानूनों को नि

पिंजरा या भारत तोड़ने की कोशिश ?

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में मुख्य परिसर से सटा हुआ या यूं कह लें कि मुख्य परिसर में ही महिला छात्रावास है। और, विश्वविद्यालय में पढ़ने वाली छात्राएं, महिला छात्रावास से निकलकर सीधे परिसर में आ जातीं थीं, लेकिन यह रास्ता पूरी तरह से उन्हीं छात्राओं के लिए था जो महिला छात्रावास में रहती थीं। महिला छात्रावास में छात्रों या किसी को भी जाने के लिए मुख्य द्वार से ही जाना होता था और इसके लिए बाकायदा सुरक्षा में लगे जवानों के पास नाम वगैरह दर्ज कराकर ही जाया जा सकता था। 90 के दशक तक 3 महिला छात्रावास हुआ करते थे और उन तीनों के पहले छात्रावास अधीक्षिका का कक्ष, छात्रावास कार्यालय होता था, वहीं तक जाकर छात्राओं से मुलाकात होती थी। वर्ष में एक बार विश्वविद्यालय के छात्रों को महिला छात्रावास के अंदर जाने का अवसर मिलता था और वह अवसर होता था छात्रसंघ चुनाव के दौरान इलाहाबाद विश्वविद्यालय की बेहद अनोखे मशाल जुलूस वाले दिन। हर प्रत्याशी अपने जुलूस के साथ महिला छात्रावास में जाता था, जहां छात्राएं, छात्रसंघ प्रत्याशियों के ऊपर फूल फेंकती थीं और जिस नेता के ऊपर ज्यादा गुलाब गिरे, उसकी जीत पक्की मान