Tuesday, February 19, 2008

ये राज ठाकरे और उनके समर्थकों के पढ़ने के लिए है

राज ठाकरे की ठकुरैती इस समय शांत हो गई है। लेकिन, मराठी अस्मिता के नाम पर कब वो जाग जाए ये कोई नहीं जानता। मैं दैनिक जागरण अखबार में इलाहाबाद का पन्ना पढ़ रहा था। मैं खुद भी इलाहाबाद का हूं और मेरे मोहल्ले दारागंज के ही मराठियों से जुड़ी खबर है। मुझे आजतक अंदाजा नहीं था कि मेरे मोहल्ले में ही 1000 से ज्यादा मराठी रहते हैं। ये मराठी क्या सोचते हैं पढ़िए

4 comments:

  1. राज ठाकरे चुप इस लिया हुआ क्योंकि उसकी पार्टी के २० लोग उसकी इस बात का विरोध कर वापस शिव सेना में चले गये।

    ReplyDelete
  2. राज ठाकरे जो इंस्टैंट पॉलिटिकल माईलेज चाहते थे वो उनको मिल गया पर अनजाने ही वे शहरी मानस के मानस का विभाजन तो कर ही गये। मुझे दुःख नहीं अगरचे मुझे महाराष्ट्र से लात मारकर निकाल दिया जाय, शायद वाकई मैं किसी स्थानीय का हक मार रहा हूं, पर मैं यही लात कस के मध्यप्रदेश की सरकार को मारुंगा जहाँ मैं पैदा हुआ और जिसने मुझे रोजगार के सही मौके नहीं दिये और महाराष्ट्र सरकार को मारुंगा जिन्होंने ये नहीं सोचा कि माईग्रेंट्स के लगातार बढ़ते इंफ्लक्स से कैसे निबटा जाय। और राज को एक लात उस मराठी परिवार के लोग ज़रूर मार आयें जिसने इस बवाल में अपनी जान गवाईं।

    ReplyDelete
  3. इस देश में हर शख्स परेशान सा क्यूं है?

    ReplyDelete
  4. राज ठाकरे को दोष देने से समस्या का समाधान नहीं होगा। राज नहीं होंगे तो और कोई बाज आ खड़ा होगा। इन्हें पैदा करने वाली तो वह व्यवस्था है जो बेरोजगारी का कोई समाधान नहीं खोज पा रही है। जब जब भी चुनाव आएंगे लोगों का ध्यान बंटाने के लिए यह निष्फल व्यवस्था नए नए राज और बाज खड़े कर देगी लोगों का ध्यान जनता की मूल समस्याओं से हटाने के लिए।

    ReplyDelete

नरेंद्र मोदी का साक्षात्कार जो हो न सका

Harsh Vardhan Tripathi हर्ष वर्धन त्रिपाठी काशी से तीसरी बार सांसद बनने के लिए नामांकन पत्र दाखिल करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2004-10 तक ...