Skip to main content

शिमला यात्रा, ड्राइवर रमेश के श्रीमुख से

यात्रा हमेशा सिखाती है। और यात्रा में मिलने वाले नए-नए लोग काफी कुछ नया सिखाते हैं। अकेले यात्रा करने वाले सबसे ज्यादा जानते सीखते हैं। उसकी वजह ये होती है कि हर नए से बोलने-बतियाने का अवसर रहता है। सीखने के लिहाज से ट्रेन की यात्रा सबसे कमाल की होती है। रेलगाड़ी के भीतर-बाहर काफी कुछ सीखने लायक मिलत-दिखता रहता है। लेकिन, आजकल एक और यात्रा होती है। टैक्सी की यात्रा। और टैक्सी की यात्रा में सिखाने का काम करता है टैक्सी का ड्राइवर। इस बार सपरिवार हम शिमला यात्रा पर खुद ही कार चलाकर गए। बढ़िया यात्रा रही। मजा आया। लेकिन, शिमला पहुंचकर हमने वहां घूमने के लिए एक टैक्स ले ली। वजह ये कि खुद कार चलाते रहे तो, पहाड़ का प्राकृतिक आनंद ले नहीं पाएंगे।

टैक्सी के साथ टैक्सी ड्राइवर रमेश आए। रमेश शिमला से थोड़ा आगे बिलासपुर का रहने वाला है। शिमला में टैक्सी चलाते हैं। इसी से आसानी से परिवार चल जाता है। मैंने पूछा हिमाचल प्रदेश के बाहर टैक्सी लेकर जाते हैं। रमेश बोले समय ही नहीं है। शिमला, मनाली और उससे ऊपर के पर्यटकों से ही फुर्सत नहीं मिलती। परिवार बिलासपुर में ही रहता है। खेती भी अच्छी हो जाती है। बात शुरू हुई तो हमारे टैक्सी ड्राइवर रमेश के श्रीमुख से आया कि शहर तो शहर ही होता है। तो पहाड़ के भी शहर में कुछ तो बेईमानी आ ही गई है। वैसे गांव एकदम ईमानदार हैं। चायल से घूमकर लौटते रमेश ने शिमला का अस्पताल दिखाते बताया कि बिलासपुर में एम्स आ रहा है। मैंने पूछा तो बताया कि हां, बेहतर तो हो ही जाएगा। और ये भी बता दिया कि सबसे बेहतर जगह एम्स के लिए बिलासपुर ही है। जाहिर है बड़ा संस्थान आता है तो वहां के लोगों के लिए अच्छी खबर लेकर आता है। रमेश ने कहाकि जे पी नड्डा भी हमारे यहां का है। स्वास्थ्य मंत्री है। हिमाचल में भाजपा का नेता अब वही बनेगा। हमारे देश में कोई भी राजनीति पर बराबर दखल रखता है। उस दखल के सिद्धांत को कायम रखते हुए ड्राइवर रमेश के श्रीमुख से आया कि मोदी की लहर में जाने कितने मुर्दे तर गए। रमेश ने कहाकि इस बार धूमल का लड़का जीतने वाला बिल्कुल नहीं था। हालांकि, रमेश ने ये भी भविष्यवाणी कर दी कि अगली सरकार फिर से बीजेपी की होगी। वजह बड़ी ये बताई कि राजा वीरभद्र सिंह की विरासत संभालने वाला कोई नहीं है।

ये सब सामान्य ज्ञान तो रमेश ने बढ़ाया ही। लेकिन, असल ज्ञान आया, चायल से लौटते कुफरी में घुड़सवारी का आनंद (आनंद कहने की बात है। कभी-कभी ऐसे ही पहाड़ों में जाकर घोड़ा चढ़ने वालों की जान सांसत में रहती है।) लेने के बाद। शिमला गेस्ट हाउस लौटते मैंने कहा घोड़ों ने आपस में लड़ते हमारा घुटना तोड़ दिया। उस पर हमारा घोड़े वाला बेहद बद्तमीज था। खुद को संभालना पड़ा। सामने से दूसरे घोड़े पर आ रहे परिवार के साथ उनके घोड़े वाले का झगड़ा चल रहा था। क्योंकि, पैर जिस पर रखते हैं, वो रस्सी टूट गई। पुरुष के साथ उसका बच्चा भी था। वो बुरी तरह से झगड़ रहे थे। पुरुष बोला बच्चा गिर जाता तो। बीच में दखल देते हमारा घोड़े वाला बोला- बच्चा तुम्हारा है तो तुम्हीं ख्याल रखोगे ना। फिर मुझसे भी रहा नहीं गया और मैंने अपने घोड़े वाले को डांटा। हालांकि, वो दूसरे के उदाहरण देकर उनको गालियां देता रहा। मैंने खुद पर नियंत्रण रखा। और बाद में ये घटना ड्राइवर रमेश को बताने पर जो उसने कहा, उससे खुद के समझदार होने का प्रणाणपत्र प्राप्त होने जैसा अहसास हुआ। रमेश ने कहा- अरे साहब जो कुछ नहीं कर पाता वही तो इन घोड़ों के साथ दिन भर ऊपर नीचे दौड़ता रहता है। वरना सोचिए कौन घोड़ों के साथ-साथ ऐसे दौड़ सकता है। फिर घोड़ों के साथ रहते इनका दिमाग भी घोड़े जैसा हो जाता है। अब बताइए घोड़े से कोई बहस की जा सकती है। झगड़ा जा सकता है। इतनी आसानी से ये बात रमेश कह गया। मुझे लगा सही बात है इस तरीके से कौन पर्यटक सोचता होगा। अगली बार अगर किसी घोड़े वाले से या किसी और से झगड़ने की नौबत भी आ जाए तो, ड्राइवर रमेश के श्रीमुख से निकली बात जरूर ध्यान में रखिएगा। 

Comments

Popular posts from this blog

किसान राजनीति के बीच सरकार आधुनिक किसान नेता बनाने में जुटी है

हर्ष वर्धन त्रिपाठी दिल्ली की सीमा पर तीन तरफ़ सिंघु , टिकरी और ग़ाज़ीपुर पर कृषि कानूनों के विरोध में किसान संगठन बैठे हुए हैं और फ़िलहाल कोई रास्ता निकलता नहीं दिख रहा है। सरकार और किसानों के नाम आंदोलन कर रहे संगठनों के बीच में वार्ता भी पूरी तरह से ठप पड़ गयी है। किसानों के नाम पर संगठन चला रहे नेताओं ने अब दिल्ली सीमाओं पर स्थाई प्रदर्शन के साथ रणनीति में बदलाव करते हुए देश के अलग - अलग हिस्सों में किसान पंचायत , बंद और प्रदर्शन के ज़रिये सरकार के ख़िलाफ़ माहौल बनाना शुरू किया है , लेकिन नरेंद्र मोदी सरकार कृषि क़ानूनों को लेकर ज़्यादा दृढ़ होती जा रही है। चुनावी सभाओं से लेकर अलग - अलग कार्यक्रमों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को आधुनिक कृषि व्यवस्था से जोड़कर उनकी आमदनी दोगुना करने के सरकार के लक्ष्य को बार - बार दोहरा रहे हैं , लेकिन बड़ा प्रश्न यही है कि आख़िर किसानों को यह बात समझाने में सरकार कैसे कामयाब हो पाएगी , जब

भारतीय संवैधानिक व्यवस्था में दम तोड़ेगी यूनियनबाज किसानों की “अराजकता”

भारतीय संविधान निर्माताओं ने जब संविधान बनाया था तो स्पष्ट तौर पर उसमें यह व्यवस्था स्पष्ट करने की कोशिश की थी कि किसी भी हाल में विधायिका , न्यायापालिका और कार्यपालिका के बीच किसी तरह का टकराव न हो। हालाँकि , इसमें लोकतंत्र की मूल भावना का ख्याल रखते हुए विधायिका और न्यायपालिका को एक दूसरे पर इस नज़रिये से नज़र रखने का बंदोबस्त किया गया कि किसी भी हाल में निरंकुश व्यवस्था न हावी हो जाए , लेकिन सबके मूल में लोकतंत्र को ही सर्वोच्च भावना के साथ स्थापित करना था , इसीलिए कई बार भारतीय लोकतंत्र में इस बात की भी चर्चा होने लगती है कि भारत में अतिलोकतंत्र की वजह से सरकारें निर्णय नहीं ले पाती हैं। पहले नागरिकता क़ानून के विरोध में चले शाहीनबाग और अब कृषि क़ानूनों के विरोध में चल रहे सिंघु - टिकरी - गाजीपुर के आंदोलन को लेकर अतिलोकतंत्र की बहस फिर से छिड़ गई है और इसी अतिलोकतंत्र की बहस के बीच सर्वोच्च न्यायालय ने तीनों कृषि क़ानूनों को नि

पिंजरा या भारत तोड़ने की कोशिश ?

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में मुख्य परिसर से सटा हुआ या यूं कह लें कि मुख्य परिसर में ही महिला छात्रावास है। और, विश्वविद्यालय में पढ़ने वाली छात्राएं, महिला छात्रावास से निकलकर सीधे परिसर में आ जातीं थीं, लेकिन यह रास्ता पूरी तरह से उन्हीं छात्राओं के लिए था जो महिला छात्रावास में रहती थीं। महिला छात्रावास में छात्रों या किसी को भी जाने के लिए मुख्य द्वार से ही जाना होता था और इसके लिए बाकायदा सुरक्षा में लगे जवानों के पास नाम वगैरह दर्ज कराकर ही जाया जा सकता था। 90 के दशक तक 3 महिला छात्रावास हुआ करते थे और उन तीनों के पहले छात्रावास अधीक्षिका का कक्ष, छात्रावास कार्यालय होता था, वहीं तक जाकर छात्राओं से मुलाकात होती थी। वर्ष में एक बार विश्वविद्यालय के छात्रों को महिला छात्रावास के अंदर जाने का अवसर मिलता था और वह अवसर होता था छात्रसंघ चुनाव के दौरान इलाहाबाद विश्वविद्यालय की बेहद अनोखे मशाल जुलूस वाले दिन। हर प्रत्याशी अपने जुलूस के साथ महिला छात्रावास में जाता था, जहां छात्राएं, छात्रसंघ प्रत्याशियों के ऊपर फूल फेंकती थीं और जिस नेता के ऊपर ज्यादा गुलाब गिरे, उसकी जीत पक्की मान